ब्रेकिंग - जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 वीं भर्ती जिलावार चयन सूचि एवं रिजल्ट यहाँ देखें Jawahar Navodaya Result 2020-21


ब्रेकिंग - जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 वीं भर्ती जिलावार चयन सूचि एवं रिजल्ट यहाँ देखें Jawahar Navodaya Result/Merit List  2020-21 

Jawahar Navodaya Result 2020-21 - जवाहर नवोदय विद्यालय समिति द्वारा आज कक्षा 6 वीं भर्ती हेतु रिजल्ट एवं सभी राज्यों की जिलावार चयन सूचि जारी कर दिया है। परीक्षा में बैठने वाले अभ्यर्थी नीचे दिए लिंक से अपना रिजल्ट अथवा पूरा सूचि अपना नाम देख सकते है। 

रिजल्ट नीचे देखें- 






शिक्षा विभाग से सम्बंधित अन्य जानकारी नीचे देखें- 

छत्तीसगढ़ प्रदेश में स्कूल 16 जून के बजाय 01 अगस्त से खोलने की तैयारी CG School Shiksha Vibhag News 2020
 
CG School Shiksha Vibhag News 2020 - कोरोना संकट को देखते हुए इस वर्ष प्रदेश में 16 जून से नया शिक्षा सत्र प्रारम्भ होना मुश्किल लग रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार आगामी शिक्षा सत्र 16 जून के बजाय 01 अगस्त से शुरू करने पर विचार चल रहा है। कोरोना का प्रदेश सहित देश विदेश में फैलाव तेजी से बढ़ रहा है। कोरोना संकट काल अभी कुछ समय तक अपने चरम सीमा पर और रह सकता है। जब तक कोरोना पर पूर्ण नियंत्रण नहीं हो जाता तब तक स्कूलों को खोलना संभव नहीं लग रहा है।

यह भी पढ़ें- शिक्षक घर-घर खोजेंगे कोरोना संदेही मरीज लगी सैकड़ों शिक्षकों की ड्यूटी। 


यह भी पढ़ें- नियमित चपरासी के 30 पदों में भर्ती।  


आगामी शिक्षा सत्र में हमें स्कूल टाइमिंग से लेकर अन्य व्यवस्थाओं में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। कक्षाओं को रोस्टर से भी लगाया जा सकता है। स्कूल शिक्षा विभाग देश से स्कूल खुलने और वर्तमान में बच्चों की पढाई प्रभावित होने पर ऑनलाइन क्लास विकल्प के रूप में लेकर आया है। जिसमे बहुत से बच्चे ऑनलाइन अध्यापन भी प्रारम्भ कर दिए है। देर से स्कूल खुलने पर कुछ युनिटो को कम करने पर विचार भी किया जा रहा है। शासन के सम्पूर्ण आदेश का पालन शासकीय स्कूलों के साथ-साथ मान्यता प्राप्त प्राइवेट स्कूलों के लिए भी बंधनकारी होगा।


प्रदेश के समस्त शासकीय एवं अशासकीय स्कूल 13 मार्च से लेकर आगामी आदेश तक बंद किया गया है। प्रदेश में अभी 10 वीं एवं 12 वीं के कुछ पेपर शेष है। कक्षा 1 से 9 एवं 11 वीं के बच्चों को जनरल प्रमोशल कर आगामी कक्षा में कक्षोन्नति दे दिया गया है। कोरोना मरीजों की संख्या प्रतिदिन देश में बढ़ रही है, और जून जुलाई में अभी और बढ़ने के आसार है। इस स्थिति में नया शिक्षा सत्र कब से प्रारम्भ होगा यह स्पस्ट नहीं है। लेकिन यह सत्य है की जब तक कोरोना पर नियंत्रण नहीं हो जाता तब तक स्कूल खोलना असंभव है। शिक्षा विदों के अनुसार आगामी शिक्षा सत्र एक से डेढ़ माह बढ़ाया जा सकता है।


शिक्षा सत्र में  पढाई के नुकसान को देखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग ने प्लानिंग शुरू कर दी है। प्रमुख सचिव शिक्षा डॉ. आलोक शुक्ला की पहल पर पिछले दिनों एससीइआरटी रायपुर एक संगोष्ठी आयोजित की गयी थी,इसमें शिक्षाविदों के अलावा शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले एनजीओ के प्रतिनिधियों से भी विचार विमर्श किया गया था। कोरोना संकट में बच्चों को कोरोना से बचाकर रखना ही प्रमुख लक्ष्य है। इस लिए पढाई के नुकसान की भरपाई हेतु ऑनलाइन कक्षाओं का आयोजन किया जा रहा है जिसके सहायता से बहुत से बच्चे पढाई भी कर रहे है।

रोस्टर अनुसार लगायी जा सकती है कक्षाएं- प्राप्त जानकारी अनुसार जब भी स्कूल खुलेगी तो रोस्टर अनुसार कक्षाएं लगायी जा सकती है। इस पर विचार कर प्लानिंग तैयार किया जा रहा है। रोस्टर अनुसार कक्षाएं लगाने से स्कूलों में भीड़ को नियंत्रित रखा जा सकता है। इसके विकल्प के तौर पर एक -एक दिन कक्षाएं जैसे एक दिन पहली-दूसरी, फिर एक दिन दूसरी तीसरी,फिर चौथी -पांचवी इसी प्रकार से सभी कक्षाओं को बारी- बारी से लगाए जाने पर विचार चल रहा है। अथवा एक दिन में केवल एक ही कक्षा के बच्चों को बुलाया जा सकता है।


स्कूल खुलने पर बच्चों के लिए सेनेटाइजर एवं मास्क का व्यवस्था करना अनिवार्य होगा। वही बच्चों की संख्या अधिक होने पर कुछ कक्षाओं को पंचायत भवन में भी संचालित किया जा सकता है। प्रदेश में प्राइमरी स्कूल से लेकर हायर सेकेंडरी तक स्कूलों की संख्या 57 हजार है। लगभग 30 हजार स्कूल ऐसे है जहाँ दर्ज संख्या 100 से कम है। इसी तरह लगभग 15 हजार स्कूलों में 100 से अधिक दर्ज संख्या है।

टेलीविज़न एवं रेडियों की मदद पर विचार- शिक्षा विभाग के ऑनलाइन पोर्टल का लाभ गांव के बच्चों को अच्छे से नहीं मिल पा रहा है। क्योंकि गांव में नेटवर्क समस्या के साथ-साथ सभी पालकों के पास स्मार्ट फ़ोन भी नहीं है। लिहाजा ऑनलाइन कक्षा का लाभ गांव तक नहीं पहुँच पा रहा है। अतः शिक्षा विभाग टेलीविज़न एवं रेडिओ के माध्यम से पढाई पर विचार कर रही है।


माननीय शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने बताया की नया शिक्षा सत्र अभी आरम्भ होने में अभी समय है,सभी परिस्थितियों को विचार करते हुए विभाग द्वारा प्लान तैयार किया जा रहा है।

सचिव स्कूल शिक्षा डॉ. आलोक शुक्ला के अनुसार नया शिक्षा सत्र शुरू होने में अभी समय है,किन्तु वर्तमान परिस्तिथियों को देखते हुए शिक्षा विभाग ने प्लानिंग शुरू कर दी है.स्कूल खुलने पर किस तरह बच्चों को सुरक्षित रखा जाये और सत्र आरम्भ होने पर देरी होने पर बच्चों की पढाई प्रभावित न हो,इसके लिए कई विकल्पों पर विचार चल रहा है।

जॉब न्यूज़,लेटेस्ट सरकारी नौकरी भर्तियां- 


छत्तीसगढ़ विद्युत् विभाग बम्पर भर्ती। 

छत्तीसगढ़ विधानसभा सचिवालय भर्ती। 

Post a comment

0 Comments