प्राथमिक शाला के समस्त बच्चों के पठन कौशल की होगी जाँच सम्बंधित क्षेत्र के प्राचार्य होने नोडल अधिकारी तथा मिडिल स्कूल के शिक्षक होंगे मेंटर CG Primary School Pathan Kaushal Abhiyan 2020



प्राथमिक शाला के समस्त बच्चों के पठन कौशल की होगी जाँच सम्बंधित क्षेत्र के प्राचार्य होने नोडल अधिकारी तथा मिडिल स्कूल के शिक्षक होंगे मेंटर मार्च में चलेगी जाँच अभियान जानिए सम्पूर्ण विवरण यहाँ  CG Primary School Pathan Kaushal Abhiyan 2020

शिक्षक (एलबी) संवर्ग पदोन्नति बहुत जल्द देखें आदेश यहाँ। 

CG Primary School Pathan Kaushal Abhiyan 2020 - छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशानुसार प्राथमिक शालाओं में पठन कौशल की जाँच अभियान चलाने की  निर्देश जारी हो चुकी है। पठन कौशल कार्यक्रम के अंतर्गत कक्षा 1 से 5 तक के समस्त बच्चों की पढ़ने की क्षमता की जाँच होगी। प्रत्येक बच्चों की जाँच चार स्तर पर होगा। इन्ही 4 स्तर पर बच्चो को चिन्हांकित कर वर्गीकृत किया जायेगा। इस कार्यक्रम में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दास्त नहीं किया जायेगा। बच्चों की स्तर को मेंटर शिक्षक के साथ साथ शिक्षित महिलाओ के समूह से भी जाँच कराना होगा।



हाई /हायर सेकंडरी स्तर पर प्रायः यह शिकायत रहती है की निचली कक्षा से बच्चे ठीक से पढ़कर नहीं आते है। अतः बच्चों के पठन कौशल विकास हेतु प्राचार्यों को भी समुचित प्रयास करना होगा। यदि समय रहते उक्त कार्य को अच्छे से निर्वहन किया जाये तो बच्चों के स्तर में अवश्य सुधार होगा। इस पोस्ट में आप नीचे क्रमशः नोडल अधिकारी,मेंटर एवं शिक्षित महिला समूह के कार्य को अच्छे से जानेंगे अतः पोस्ट को अंत तक अवश्य पढ़ें- 

निम्न चार स्तरों में होगी बच्चों की जाँच- 

       स्तर 1. - अच्छे से सामान्य गति एवं सही उच्चारण के साथ समझ सहित पढ़ लेते है।
       स्तर 2. - सामान्य गति में पढ़ लेते है लेकिन पढ़ें हुए सामग्री की समझ की कमी है।
       स्तर 3. अटक अटक कर पढ़ते है और समझ का आभाव है।
       स्तर 4. बिलकुल भी ठीक से नहीं पढ़ पाते।

इस योजना में महिला निर्णायक की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण कड़ी है। क्योंकि यदि निर्णायक महिलाओं ने यदि ऐसे बच्चों को उत्तीर्ण कर दिया जिसे ठीक से पढ़ना नहीं आता या उन बच्चों को अच्छे स्तर पर डाल दिया तो यह योजना सफल नहीं होगी और सिर्फ खाना पूर्ति होगी। अतः निर्णायक समूह के महिला को पुरे ईमानदारी से आकलन कार्य करना होगा।

पठन कौशल विकास हेतु विभिन्न स्तरों पर जिम्मेदारियां- सम्बंधित क्षेत्र के हायर सेकंडरी स्कूल के प्राचार्य को उक्त अभियान की नोडल अधिकारी एवं प्रमुख जिम्मेदार व्यक्ति नियुक्त किया गया है। जिसकी देख रेख में उक्त सभी कार्यक्रम को अच्छे से सञ्चालन करना होगा।

 1.सम्बंधित नोडल अधिकारी को अपने क्षेत्र में निम्न कार्य करने होंगे विस्तृत जानकारी नीचे देखें डाउनलोड करें -

1. प्राथमिक शालाओं के लिए एक निकटतम उच्च प्राथमिक शाला के शिक्षक को मेंटर नियुक्त करना।
2.मेंटर के माध्यम से प्राथमिक शालाओं में कार्यक्रम का सञ्चालन करवाना।
3.सभी शालाओं में जल्द बेस लाइन आकलन/जाँच कर बच्चों के स्तर निर्धारण करना।
4.बेसलाइन आकलन का मेंटर /माताओं से वेरिफिकेशन कराना।
5.बेहतर एवं कमजोर प्रदर्शन करने वाले शालाओं का नोडल अधिकारी स्वयं जाकर जाँच कर आकलन करेंगे।
6.सभी प्राथमिक शालाओ को बेहतर कर करने के लिए प्रोत्साहित करना।
7.शिक्षकों के पठन कौशल विकास हेतु प्रशिक्षण आयोजन करना।
8.अपने अधीन समस्त प्राथमिक शालाओं की जाँच उपरांत रिपोर्ट उच्च कार्यालय को सूचित करना।

2.सम्बंधित मेंटर के कार्य डाउनलोड करे /देखें -

1.प्राथमिक शाला में समय - समय में जाकर बच्चों में वाचन कौशल को विकसित करने हेतु किये जा रहे प्रयास की जानकारी लेना।
2.बच्चों के वर्तमान स्तर की जानकारी लेने हेतु स्थानीय शिक्षित महिलाओं का सहयोग लेकर कार्य करना।
3.मुस्कान पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों का भरपूर उपयोग करवाना।
4.शिक्षित माताओं की 5 सदस्यीय समूह बनाना।
5.टेक्नॉलजी का उपयोग हेतु प्रोत्साहन एवं  गूगल बोलो एप्प का उपयोग कराना।
6.समय -समय पर बच्चों की स्तर का क्रॉस वेरिफिकेशन।
7.प्रत्येक बच्चों के पढ़ने का स्तर के चार्ट वेरिफिकेशन करना।
8. स्थानीय समुदाय का सहयोग लेकर पठन कौशल कार्यक्रम का सफल आयोजन करना।

3.सम्बंधित शिक्षित महिला समूह के कार्य देखें डाउनलोड करें -

1.पठन अभियान के अंतर्गत सभी दिशा निर्देशों का समुचित पालन करना।
2.महिलाओं को पठन कौशल विकास हेतु बच्चों पर विशेष ध्यान देना।
3. प्रत्येक बच्चों को स्तरानुसार सामग्री प्रदान कर स्तर की जाँच करना।
4.सभी बच्चों के रिपोर्ट कार्ड की जानकारी रखना।
5. यदि बचे में दृष्टि दोष है तो स्वास्थ्य विभाग से संपर्क करना।
6. शाला समय के अतिरिक्त अन्य समय पर शिक्षा चौपाल की व्यवस्था करना।
7. मेंटर से संपर्क कर प्रशिक्षण लेना।
8. समुदाय से बच्चों के लिए पठन सामग्री अधिक से अधिक उपलब्ध कराना।

पठन कौशल कार्यक्रमों का संकुल स्तरीय आयोजन - उक्त कार्यक्रम के सफल सञ्चालन हेतु प्राथमिक शालाओ के बच्चों का संकुल स्तरीय पाठक कौशल कॉम्पिटिशन कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। संकुल स्तरीय कार्यक्रम में  अच्छा प्रदर्शन करने वाले प्राथमिक शाला के बच्चों को ब्लाक स्तरीय एवं जिला स्तरीय पठन कौशल आयोजन कार्यक्रमों में भाग लेने का मौका मिलेगा। सभी स्तर पर अच्छा प्रदर्शन करने वाले बच्चों को प्रोत्साहित/पुरष्कार दिया जायेगा।

नोट- उक्त पठन कौशल कार्यक्रम के बारे में अधिक जानकारी हेतु अपने संकुल समन्वयक से संपर्क करें।

टीप- विभाग द्वारा जारी विस्तृत दिशा निर्देश नीचे दिए लिंक में देखें- 


विभाग द्वारा जारी विस्तृत दिशा निर्देश यहाँ देखें। 

अन्य विभागीय जानकारी यहाँ नीचे देखें- 

SLA परीक्षा PA -2 , F 2 परीक्षा  अंक प्रविष्ट जानकारी। 

क्रमोन्नति सम्बंधित जानकारी यहाँ देखें। 


Post a comment

0 Comments